Featured Post

नारी - एक चिंगारी ( Naari Ek Chingari)

 एक चिंगारी नारी

हिंदी कविता नारी एक चिंगारी


अभिमान की आवाज़ में
कभी रीति में रिवाज़ में
भक्ति है जो उस नारी को
शक्ति जो उस चिंगारी को
जितना भी उसे दबाओगे
एक ज्वाला को भड़काओगे।

उस अंतर्मन में शोर है
बस चुप वो ना कमज़ोर है
जितना तुम उसे मिटाओगे
उतना मजबूत बनाओगे।

बचपन में
थामा था आंचल
वो ही पूरक
वो ही संबल
तुम उसके बिना अधूरे हो
तुम नारी से ही पूरे हो
जितना तुम अहम बढ़ाओगे
अपना अस्तित्व मिटाओगे।
By- Dr.Anshul Saxena 

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

गृहणी (Grahani)

अभिलाषा: एक बेटी की

सुनहरा बचपन

उम्र और सोच- एक कहानी (Umra Aur Soch- Ek Kahani)

तानाशाही (Tanashahi)

आजकल हर शख़्स व्यस्त है?

अनोखे नौजवान (Anokhe Naujawan)

सच्चा गुरु (Sachcha Guru)

ऐ ज़िंदगी तेरी उम्र बहुत छोटी है