Featured Post

नारी - एक चिंगारी ( Naari Ek Chingari)

Image
 एक चिंगारी नारी अभिमान की आवाज़ में कभी रीति में रिवाज़ में भक्ति है जो उस नारी को शक्ति जो उस चिंगारी को जितना भी उसे दबाओगे एक ज्वाला को भड़काओगे। उस अंतर्मन में शोर है बस चुप वो ना कमज़ोर है जितना तुम उसे मिटाओगे उतना मजबूत बनाओगे। बचपन में थामा था आंचल वो ही पूरक वो ही संबल तुम उसके बिना अधूरे हो तुम नारी से ही पूरे हो जितना तुम अहम बढ़ाओगे अपना अस्तित्व मिटाओगे। By- Dr.Anshul Saxena 

कोरोना हो जाने पर क्या करें? What to do if you are corona positive?

 कोरोना हो जाने पर क्या करें? 



जैसा कि हम सभी जानते हैं कि कोरोनावायरस की दूसरी लहर बहुत ही आक्रामक और संक्रामक है और यह बहुत तेजी से लोगों को संक्रमित कर रहा है। इस बार पूरे के पूरे परिवार एक साथ संक्रमित हो रहे हैं। मेरा भी पूरा परिवार को रोना से संक्रमित हुआ।

कोरोनावायरस हो जाने पर क्या करें?

सबसे पहले तो आपको उचित चिकित्सक से परामर्श लेकर अपनी चिकित्सा शुरू करा देनी चाहिए । दवाओं की अतिरिक्त भी बहुत कुछ है जो इस वायरस के विरुद्ध लड़ने में आपकी सहायता कर सकता है । इस वायरस से लड़ने में आपकी शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता के अलावा यदि कोई शक्ति आपकी मदद करती है तो वह है आपकी आत्मशक्ति।

सकारात्मक रहें:



अपने मन में एक सकारात्मकता रखें। सोचें कि आप जल्दी ही स्वस्थ हो जाएंगे। आपका पूरा परिवार जल्दी स्वस्थ हो जाएगा। यदि आप अपना आत्मविश्वास बनाए रखते हैं तो विश्वास कीजिए आप की आत्मशक्ति दुगनी हो जाती है और यही आपको इस वायरस के विरुद्ध लड़ने की क्षमता दुगनी करती है।घबराए नहीं।

क्या खायें 

इस संक्रमण में आप हेल्थी डाइट लेते रहें। अपने भोजन में पोषक तत्वों को प्रचुर मात्रा में रखें। रेशेदार फल और सब्जियां खाएं। शराब का सेवन करें। तला हुआ या मिर्च मसालेदार खाना ना खाएं। आइसक्रीम, दही इत्यादि ना खाएं। ठंडा ना खाएं। 

भरपूर पानी पियें

अपने शरीर को हाइड्रेट रखें। थोड़ी थोड़ी देर में पानी पीते रहें। एक लक्ष्य बना लीजिए कि दिन भर में आपको कम से कम 3-4 लीटर पानी अवश्य पीना है। यह आपके शरीर के जहरीले तत्वों को बाहर निकालने में मदद करता है।

दिन में दो या तीन बार गरम पानी जरूर पियें जिससे कि आपके शरीर में बनने वाला कफ आपके गले से उतर कर आपके फेफड़ों में जमा ना हो पाए। यदि आपके गले में खराशें हैं और खांसी है तो थोड़ा नमक डालकर गर्म पानी के साथ गरारे जरूर करें। दिन में दो बार नींबू की चाय जरूरी है। ORS का पानी पीते रहें।

ऑक्सीजन लेवल कैसे बढ़ाएं

आप सभी को पता होगा कि हमारे देश में ऑक्सीजन की भारी कमी हो रही है ऐसे में जो व्यायाम चिकित्सकों द्वारा सुझाए जा रहे हैं वही मैं यहां साझा करूंगी। सुझाए गए व्यायाम ऑक्सीजन की कमी को पूरा भले ही ना कर पाए लेकिन ऑक्सीजन लेवल सामान्य रखने में मदद जरूर करेंगे।

शरीर में ऑक्सीजन लेवल बढ़ाने या सामान्य रखने के लिए पेट के बल लेट चाहिए और पेट के नीचे तकिया रख लीजिए जोर से सांस कीजिए और धीरे-धीरे छोड़िए। फिर आधे घंटे के लिए उल्टे हाथ की करवट पर लेटी है यही प्रक्रिया दोहराएं फिर सीधे हाथ की करवट पर लेट कर यही प्रक्रिया दोहराएं।फिर सीधे बैठ जाएं मुंह से सांस खींचें और थोड़ी देर रोक कर रखें और इसी दौरान अपने कंधों को ऊपर नीचे करें आगे पीछे करें यह सूक्ष्म व्यायाम आपके फेफड़ों की कैपेसिटी को बढ़ाता है। यह सारे व्यायाम जिन की रीढ़ की हड्डी में समस्या हो, ओबेसिटी की समस्या से जूझ रहे हों या जो गर्भवती महिलाएं हो वो ना करें।



इसके अलावा आप कपालभाति, प्राणायाम और अनुलोम विलोम जैसे सूक्ष्म योगाभ्यास जरूर करें। उससे आपके फेफड़ों की सांस लेने की क्षमता बढ़ेगी और शरीर में ऑक्सीजन लेवल सामान्य रहेगा।

ऑक्सीमीटर लें



अपने घर में एक ऑक्सीमीटर जरूर रखें जिससे कि आप अपनी ऑक्सीजन और पल्स को जांचते रहें। ऑक्सीजन लेवल 94 तक आ रहा है तो चिंता की कोई बात नहीं है इसके नीचे जाने पर तुरंत चिकित्सक से परामर्श करें।

भाप लें:

कोरोनावायरस से संक्रमित होने के बाद यह बहुत आवश्यक है कि आप दिन में चार पांच बार भाप जरूर लें। भाप लेने के लिए आप गर्म पानी में तुलसी ऑयल, यूकेलिप्टस ऑयल और लॉन्ग का तेल डालें एक एक बूंद भी काफी होगी और उससे भाप लें नाक से लेकर गले और चेस्ट को बहुत आराम पहुंचाता है। भाप लेने का समय 1:00 से 2:00 मिनट का रखें। यदि यह तेल आपके घर में ना हो तो आप भाप लेने के लिए कैप्सूल्स भी मंगा सकते हैं।

भरपूर आराम करें

शरीर में हो रहे किसी भी प्रकार के नुकसान की भरपाई जब हम सोते हैं तो अच्छी तरह से होती है। बस यही ध्यान रखें और भरपूर आराम करें 7- 8 घंटे की नींद पूरी लें जिससे कि जल्दी ही आप इस वायरस को हराकर स्वस्थ हो जाएं।

यह सारे मेरे निजी अनुभव है जो मैंने यहां साझा किए हैं बाकी चिकित्सक का परामर्श लेना ना भूलें।

Comments

  1. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

अभिलाषा: एक बेटी की

सुनहरा बचपन

उम्र और सोच- एक कहानी (Umra Aur Soch- Ek Kahani)

आजकल हर शख़्स व्यस्त है?

गृहणी (Grahani)

अनोखे नौजवान (Anokhe Naujawan)

ऐ ज़िंदगी तेरी उम्र बहुत छोटी है

सच्चा गुरु (Sachcha Guru)

कोरोना वायरस

रिश्तों के पत्ते (Rishton ke Patte)